क्या कभी सोचा है लिफ्ट में शीशा क्यूं लगा होता है? जानिए इसका कारण

दोस्तों आप सब ने जिंदगी में कभी ना कभी तो लिफ्ट में सफर किया ही होगा। आजकल लिफ्ट काफी आम बात हो गई है। लगभग हर जगह हर शहर की हर बिल्डिंग यह मॉल में या अपार्टमेंट में आपको लिफ्ट देखने को मिल ही जाती है।

लोगों को इसमें चढ़कर ऊपर नीचे जाना सीढ़ियों से जाने से ज्यादा आसान लगता है। जोकि विना शक के बिल्कुल सही बात है। लिफ्ट इंसान द्वारा बनाई गई बहुत ही अच्छी टेक्नोलॉजीज में से एक है। लिफ्ट के द्वारा हम आसानी से चाहे पहला हो या फिर 100वा हो किसी भी फ्लोर पर आसानी से पहुंच सकते हैं ‌। लिफ्ट सेकंडो में हमें 50 वी क्या 100वी मंजिल पर भी पहुंचा देती है।

आप किसी भी बिल्डिंग चाहे वह मॉल हो स्कूल हो कॉलेज हो या अपार्टमेंट हो उसकी कोई भी लिफ्ट में चले जाएं। आपको हमेशा लिफ्ट में शीशा देखने को जरूर मिल जाएगा। लेकिन क्या कभी आपने सोचा है कि आखिर हर लिफ्ट में शीशा लगा क्यों होता है।

दरअसल हकीकत यह है दोस्तों की जब लिफ्ट का आविष्कार किया गया था उस समय शीशा नहीं हुआ करता था। इस कारण जब लोग लिफ्ट में चढ़कर ऊपर या नीचे जाते थे तो वह इस चीज की शिकायत लगाते थे कि लिफ्ट की स्पीड बहुत ज्यादा है और उनको डर भी लगता था। तो साइंटिस्ट नहीं है सोचा कि इंसान के डर को हटाने के लिए हमें उसका ध्यान तो जरूर बताना पड़ेगा।

तो इसी कारण साइंटिस्ट ने यह सोचा कि क्यों ना लिफ्ट में शीशा लगा दिया जाए। शीशा लगाने के बाद इंसान शीशे में खुद को देखेगा और उसका ध्यान भटक जाएगा। फल स्वरुप वह समय पर ज्यादा ध्यान ना देगा और उसे स्पीड से कोई मतलब नहीं रहेगा।

तो इसी कारण हर लिफ्ट में शीशा लगा होता है ताकि इंसान को डर को भटकाया जाए और समय को जल्दी निकाल दिया जाए। तो दोस्तो आपको लिफ्ट में शीशा लगे होने का ये अद्भुत कारण जान कर कैसा लगा हम कॉमेंट में ज़रूर बतियेगा।